एमपी: लोगों की पहली पसंद बने सिंधिया, सिर्फ इतने पर सिमटे शिवराज

यह मध्यप्रदेश का सबसे बड़ा ऑनलाइन सर्वे था। इसमें 167267 लोगों ने भाग लिया और करीब 10 हजार लोगों ने मतदान किया। यह लगातार 7 दिन चला। नतीजा निकल कर आया कि 73 प्रतिशत लोग शिवराज सिंह चौहान की तुलना में ज्योतिरादित्य सिंधिया  को पसंद करते हैं जबकि मात्र 27 प्रतिशत लोग सिंधिया की तुलना में शिवराज को पसंद करते हैं। यह सर्वे मात्र दोनों नेताओं की लोकप्रियता नापने के लिए था।

कहीं इकतरफा तो नहीं था यह सर्वे

इस ऑनलाइन सर्वे के आयोजक मप्र का सबसे लोकप्रिय हिंदी न्यूज पोर्टल भोपाल समाचार डॉट कॉम था जबकि तकनीकी सहयोग फेसबुक ने दिया। यह सर्वे दिनांक 16 मार्च 2017 की मध्यरात्रि 11:46 बजे से शुरू हुआ जो लगातार 168 घंटे, यानि 7 दिन चला।

इस दौरान हमने कई बार समर्थकों से अपील भी की कि वो अपने नेताओं के पक्ष में मतदान के लिए प्रयास करें। मप्र के कुल 487 कार्यकर्ताओं ने अपने नेता के समर्थन में अपने मित्रों से वोट अपील की। 1800 लोगों ने अपनी प्रतिक्रियाएं भी दर्ज कराईं, इस दौरान उन्होंने अपने पसंदीदा नेता का नाम भी लिखा परंतु इस तरह की प्रतिक्रियाओं को वोट मानकर गिनती नहीं की गई।

क्यों आयोजित किया गया यह सर्वे

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने देश के सबसे बड़े मीडिया समूह NETWORK-18 के ‘राइजिंग इंडिया समिट’ में बयान दिया था कि कांग्रेस सिंधिया को सीएम कैंडिडेट प्रोजेक्ट करे, देखते हैं जनता किसके गले में माला पहनाती है।

चूंकि कांग्रेस में गुटबाजी है और पूरे भरोसे के साथ कहा नहीं जा सकता कि मप्र में कांग्रेस की तरफ से कोई सीएम कैंडिडेट होगा। ऐसी स्थिति में शिवराज की चुनौती खाली चली जाती। अत: इस सर्वे का आयोजन किया गया ताकि आम जनता के दिल में क्या है, पता लगाया जा सके।