पूर्व PM मनमोहन सिंह को लेकर आई बड़ी खबर, कांग्रेसियों में छाई ख़ुशी की लहर

लगभग तीन दशक तक संसद के उच्च सदन राज्यसभा के सदस्य रहे  पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह एक बार फिर सदन में पहुंचने के लिए कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में मंगलवार को राजस्थान से नामांकन पत्र दाखिल करने जा रहे हैं।

राजधानी जयपुर पहुंचने पर पार्टी की राज्य इकाई के प्रमुख तथा उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने उनका स्वागत किया। कुल 200 सदस्यों वाली राजस्थान विधानसभा में कांग्रेस के पास 100 विधायक हैं, और इनके अलावा उनके पास 12 निर्दलीयों तथा बहुजन समाज पार्टी (BSP) के छह विधायकों का समर्थन भी है, सो, डॉ। मनमोहन का निर्वाचन निश्चित है। दू

सरी ओर, राज्य के प्रमुख विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी (BJP) के पास सिर्फ 73 विधायक हैं, इसलिए उन्होंने अब तक किसी प्रत्याशी की घोषणा नहीं की है।

राज्यसभा की सीट के लिए उपचुनाव उस समय ज़रूरी हो गया था, जब BJP की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष मदनलाल सैनी का नि!धन हो जाने से यह सीट रिक्त हो गई थी।

आपको बता दें कि इससे पहले इसी साल हुए राज्यसभा चुनावों में कांग्रेस मनमोहन सिंह के लिए सीट पक्की नहीं कर पाई थी। यह पहला मौ!का है जब पिछले 27-28 सालों में मनमोहन सिंह संसद में नहीं है।

अर्थशास्त्री मनमोहन सिंह की संसद में मौजूदगी विपक्ष में बैठी कांग्रेस को मजबू!ती देगी। इससे पहले जब कांग्रेस मनमोहन सिंह के लिए कोई सीट निश्चित नहीं कर पाई थी तो हर किसी ने इसे मनमोहन सिंह को रिटायर मान लिया था।

राजस्थान की राज्यसभा सीट मदन लाल सैनी के निधन के बाद खा!ली हुई है। सैनी राजस्थान के बीजेपी अध्यक्ष भी थे। मनमोहन सिंह अगर जीत जाते हैं तो राज्यसभा में उनका कार्यकाल 3 अप्रैल 2024 तक होगा। चुनाव आयोग ने राजस्थान के राज्यसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान भी कर दिया है। नामांकन की अं!तिम तारीख 14 अगस्त निर्धारित है।

बीजेपी के राजस्थान से राज्यसभा सांसद मदन लाल सैनी का दिल्ली के एक अस्पताल में निधन हो गया था, जिसके चलते खा!ली हुई उनकी सीट के लिए चुनाव कराया जाना है। पिछले साल बीजेपी जब स!त्ता में थी तब सैनी को उच्च सदन (राज्यसभा) भेजा गया था। वर्तमान में 200 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के पास बहुमत है।