गुजरात के इस दिग्गज नेता के कांग्रेस में शामिल होने पर बीजेपी में मचा हड़कंप, अब खेल रहे ये चाल

गुजरात में हार्दिक पटेल के कांग्रेस में शामिल होने के बाद से भाजपा को अब पाटीदार वोटों पर ज्यादा भरोसा नहीं रह गया है। पाटीदार वोटों के कांग्रेस की तरफ छिटकने के मद्देनजर पार्टी ने इसकी नई काट निकाली है। पार्टी विपक्षी खेमे के गैर पाटीदार ओबीसी नेताओं को अपने पाले में लाने में जुट गई है।

इस क्रम में भाजपा अब तक पांच कांग्रेसी विधायकों को अपने पाले में कर चुकी है। इन पांच विधायकों को पार्टी छो!ड़ने के कारण राज्य में कांग्रेस विधायकों की संख्या 77 से घटकर 71 रह गई है। पार्टी के पांच विधायकों में से चार गैर पाटीदार हैं। छठे विधायक भागाभाई बराड ख`नन मामले में दो!षी साबित होने के बाद अयोग्य घो!षित कर दिए गए हैं।

गुजरात में पाटीदार या पटेल दूसरे सबसे बड़ी संख्या वाले वोटर हैं। पिछले तीन दशक से इन्हें भाजपा का पक्का समर्थक माना जाता है। लेकिन हार्दिक पटेल की तरफ से आ!रक्षण आं!दोलन शुरू किए जाने के बाद इस समुदाय ने भाजपा की तरफ से मुंह मो!ड़ लिया है।

आरक्षण आंदोलन से बनी भाजपा विरो!धी लहर और ग्रामीण अर्थव्यवस्था में सुस्ती के कारण कांग्रेस ने साल 2015 के पंचायत चुनाव और 2017 के विधानसभा चुनाव में बेहतर प्रदर्शन किया था। कांग्रेस ने सौराष्ट्र क्षेत्र जो पाटीदारों का क्षेत्र माना जाता है, में भाजपा को पीछे छोड़ दिया था।

इस क्षेत्र में 47 विधानसभा सीटे हैं और साल 1995 से भाजपा की यहां मजबूत पकड़ रही है। हालांकि, कांग्रेस ने साल 2017 में यहां 28 सीटें जीती थीं। जबकि भाजपा के सीटों की संख्या 2012 में जीती गई 30 सीटों से घटकर 19 पर आ गई थी।