बीजेपी में शामिल होने वाले कांग्रेस प्रवक्ता ने दिया था ये बयान, अब लोग ले रहे मजे

लोकसभा चुनाव से ऐन पहले कांग्रेस को तगड़ा झ`टका लगा है। गुरुवार (14 मार्च, 2019) को पार्टी के वरिष्ठ नेता टॉम वडक्कन ने पार्टी का साथ छोड़ बीजेपी का दामन थाम लिया। राजधानी नई दिल्ली में केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद व अन्य नेताओं ने उस दौरान उनका स्वागत किया, जबकि बाद में पार्टी अध्यक्ष अमित शाह से भी उनकी भेंट हुई।

वडक्कन, संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) अध्यक्ष सोनिया गांधी के करीबी माने जाते हैं। राजनीतिक जानकारों की मानें तो आम चुनाव में बीजेपी उन्हें केरल की किसी सीट से प्रत्याशी बना सकती है।

कांग्रेस छोड़ने के बाद उन्होंने कहा, “मैं बेहद आहत हूं, इसलिये यहां हूं।’’ आगे जोर दिया कि कांग्रेस सशस्त्र बलों की ईमानदारी पर सवाल उठा रही है। पूरे मामले पर कांग्रेस की प्रतिक्रिया निरा!शजनक रही है और उससे वह दु;खी हैं।

बकौल वडक्कन, “मैंने भारी दिल से पार्टी (कांग्रेस) छोड़ी है। अगर कोई पार्टी राष्ट्रीय हितों के खिला!फ काम करती है, तब पार्टी छोड़ने के अलावा कोई और विकल्प नहीं बचता।”

इतना ही नहीं, वडक्कन ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व पर परोक्ष रूप से हम!ला किया। कहा कि अब वह इस्तेमाल करो और फेंकों की नीति अपना रहे हैं। वंशवादी राजनीति कांग्रेस में चरम पर है, जबकि पीएम नरेंद्र मोदी की विकास पहल पर वह पूरा भरोसा करते हैं।

बकौल वडक्कन, “मैं पार्टी का राष्ट्रीय प्रवक्ता था। कांग्रेस ने जो स्क्रिप्ट दी वह पढ़ी, पर अब आ!त्मा की आवाज सुनूंगा। अब मैं मुक्त हूं। मेरे विचार, सिर्फ मेरे हैं। उन्हें किसी ने संपादित या ब’दला नहीं हैं और अब मैं सच बोलूंगा।” आगे पूछे जाने पर कि क्या गारंटी है कि अब आप बीजेपी की स्क्रिप्ट नहीं पढ़ेंगे, आपकी साख इसमें कहां होगी?

जवाब आया- बीजेपी ने मुझे कोई पद नहीं ऑफर किया है। हमारी राष्ट्रीय मुद्दों को लेकर चर्चा हुई है। मुझ पर जिम्मेदारी होगी, तब मुझसे यह पूछा जाना चाहिए। फिलहाल मैं आजाद हूं और सिर्फ अपने मन की बात करूंगा।

रोचक बात है कि तकरीबन डेढ़ महीने पहले ही उनके टि्वटर हैंडल से कहा गया था कि बीजेपी में शामिल होने पर इंसान के सभी पाप धुल जाते हैं। दरअसल, सीबीआ!ई बनाम सीएम ममता के मुद्दे पर उस दौरान एक यूजर ने लिखा था- टीएमसी के मुकुल रॉय, जो बीजेपी के हो गए हैं। वह सारधा चिटफंड घोटा!ले के आ!रोपी हैं। आश्चर्य होता है कि उनसे कोई अब सवाल नहीं किया जाता है। उसी ट्वी!ट के थ्रेड में वडक्कन ने तं’ज कसते हुए लिखा था, “बीजेपी में आने पर किसी के भी सारे पा!प धुल जाते हैं।”