अमित शाह रो!डशो में बवा!ल के बीच आ!गजनी का विडियो आया सामने, देखिये तो!ड़फो!ड़ का दृश्य

पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में मंगलवार (14 मई, 2019) को भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) अध्यक्ष अमित शाह के रोडशो से दौरान जमकर बवा!ल क`टा। आलम यह था इसके चलते रोडशो को ख`त्म करना पड़ा।

शाम को इस बीच न केवल सीएम ममता बनर्जी के नेतृत्व वाले तृणमूल कां!ग्रेस (टीएमसी) के छात्र परिषद और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच `झड़प, पत्थ!रबाजी और आ!गजनी हुई, बल्कि समाज सुधारक ईश्वरचंद्र विद्यासागर की प्रतिमा भी तो!ड़ दी गई।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, यह घटना विद्यासागर कॉ!लेज की है, जहां सीएम ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली टीएमसी के छात्र परिषद और बीजेपी कार्यकर्ताओं में भि`ड़ंत हुई थी। घटना के बाद क्ष`तिग्रस्त प्रतिमा का फोटो भी सामने आया, जबकि उससे पहले आ!गजनी और हंगा!मे से जुड़ी क्लिप्स जारी की गई थीं।

झड़प के बाद जहां पर उप`द्रवियों ने आ!ग लगाई थी, वहां सूचना पर फौरन पुलिस पहुंची और झ`टपट पर आ!ग पर काबू पाया। हालांकि, पुलिस के वहां पहुंचते ही उपद्र`वी वहां से रफू`चक्कर हो लिए थे। फिलहाल इस मसले में किसी के गिरफ्ता!र होने की खबर नहीं है।

उधर, बवाल के बाद बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि उन पर हम!ले का प्रया!स किया गया है। सीएम ममता ही इस हिं`सा के पीछे की जिम्मेदा!र हैं। बीजेपी चीफ ने इसके अलावा दावा किया कि उनकी पार्टी प.बंगाल और देश में सरकार बनाने जा रही है और बंगालवासी पीएम मोदी को फिर से पीएम बनते देखना चाहते हैं।

कौन थे ईश्वरचंद्र विद्यासागर?:

विद्यासागर, बंगाल के पुनर्जागरण स्तंभों में से एक थे। बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे, लिहाजा उन्हें चिंतक, अकादमिक शिक्षक, लेखक, अनुवादक, प्रकाशक, उद्यमी, समाज सुधारक और समाज सेवक के रूप में जाना जाता है। 26 सितंबर 1820 को बंगाल प्रेसिडेंसी (ब्रिटिश इंडिया में) में जन्मे विद्यासागर के बचपन का नाम ईश्वर चंद्र बन्दोपाध्याय था। उन्होंने संस्कृत कॉलेज से शिक्षा-दीक्षा ली थी।